Ram Vilas Paswan Dies, लंबे वक्त से थे बीमार

0
335
Ram Vilas Paswan dies

Ram Vilas Paswan लंबे वक्त से बीमारी से जूझने के कारण देश को बीती रात अलविदा कह गए। इनकी मौत की पुष्टि स्वयं उनके बेटे चिराग पासवान ने एक ट्वीट के माध्यम से की।

चिराग पासवान अपने पापा को याद करते हुए लिखते हैं कि उनके पापा इस दुनिया में नहीं रहें लेकिन उन्हें विश्वास है कि वे जहां भी होंगे चिराग के साथ होंगे।

गौरतलब है कि राम विलास पासवान कई दिनों से अपने स्वास्थ्य को लेकर हस्पताल में इलाज करा रहे थे। उनका हर्ट सर्जरी होना था। इस बात को भी उनके बेटे चिराग पासवान ने ट्वीट कर दी थी।

Ram Vilas Paswan का राजनीतिक करियर

74 वर्ष के Ram Vilas Paswan NDA के शामिल बिहार की राजनीतिक पार्टी जन लोकशक्ति पार्टी के संस्थापक थे और उनके बेटे चिराग पासवान पार्टी के अध्यक्ष है। राम विलास पासवान राजनीति में अपना स्तर बेहद ऊंचा रखते हैं। वे तकरीबन हर प्रशासन में कैबिनेट में उपस्थित रहे।

Ram Vilas Paswan वर्तमान मोदी सरकार में उपभोक्ता मामलात के मंत्री थे लेकिन इसके अलावा वे मोरारजी देसाई के प्रधानमंत्री के वक्त से अधिकांश समय कैबिनेट मंत्री की लिस्ट में रहे। वे अटल बिहारी वाजपेयी के कैबिनेट में माइंस के मिनिस्टर रहे एवं मनमोहन सिंह सरकार में 10 साल रसायन एवं ऊर्जा मंत्रालय के पद पर रहे। इसके अलावा वे रेलवे मंत्री के तौर पर भी अपनी सेवा दी और अपने राजनीतिक करियर में मजदूरों की समस्या की देख रेख करने वाले केंद्रीय मंत्री के रूप में भी थे।

Ram Vilas Paswan Record

राम विलास पासवान का नाम उन नेताओं में भी शामिल होता है जिनका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज है। दरअसल यह वाक्य तब का है जब वह जनता दल के लिए हाजीपुर(बिहार) से चुनाव लड़ रहे थे। 1977 में लड़ा गया यह चुनाव तब सुर्खियों में आ गया जब Ram Vilas Paswan ने यह चुनावी सीट चार लाख के अधिक अंतर से जीता। हालांकि बाद में यह रिकॉर्ड टूट गया और अब यह रिकॉर्ड बीजेपी के सी आर पाटिल के पास है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here