Kisan Bill 2020:- विरोध में उतरकर हरसिमरत कौर ने दिया इस्तीफा

0
148
Kisan Bill 2020

Kisan Bill 2020 संसद में पास होने के बाद से इस बिल के खिलाफ विरोध के स्वर सुनाई दे रहे हैं। NDA के प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस एवं बसपा सुप्रीमो मायावती तो सरकार को आड़े हाथों ले ही रही है लेकिन इस बार सुर्खियां NDA के भीतर की ही पार्टी अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर के तरफ से विरोध होने पर बटोर रही हैं। Kisan Bill 2020 के पास होने से नाराज होकर हरसिमरत कौर ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। जिसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूर कर लिया है। अब खाद्य मंत्रालय का भार नरेंद्र सिंह तोमर को दे दिया गया है।

ऐसा क्या है Kisan Bill 2020 में जिससे हो रहा है विरोध

Kisan Bill 2020 गुरुवार को पांच घंटे लंबे बहस के बाद पास कर दिया गया। अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल इसे अपनी 50 वर्ष की मेहनत को बर्बाद करना कहते हैं तो वहीं विपक्षी दल किसानों को मिलने वाली न्यूनतम बिक्री मूल्य को कमजोर करना कह रहे हैं। दरअसल इस बिल में एक विधेयक के मुताबिक किसान और व्यापारी अब फसल के बेचने और खरीदने का कार्य किसी भी राज्य में कर सकते हैं। आसान भाषा में समझा जाए तो मान लीजिए कि एक किसान सेब की पैदावार करता है, हिमाचल में। लेकिन हिमाचल में वह सेब बेचते हैं तो उन्हें कम दाम मिलेंगे क्योंकि हिमाचल में उनके अलावा भी कई अन्य किसान भी बेच रहे होंगे। जिससे हिमाचल में बेचने पर उन्हें मुनाफा कम मिलता। लेकिन यही सेब वह किसी अन्य राज्य में बेचेंगे तो ज्यादा मुनाफा मिल सकता है। अब इसमें सबसे मुख्य विरोध का कारण राज्य सरकार की तरफ से यह है कि उन्हें यह डर है कि अगर उनके राज्य में किसानों को उनकी फसल का सही दाम न मिला तो वह अपनी फसल किसी अन्य राज्य में बेचने चले जाएंगे जिससे उनके राज्य में फसल की कमी हो जाएगी।

Kisan Bill 2020 पर प्रधानमंत्री मोदी का किसानों को संदेश

Kisan Bill 2020 को चाहे पूरा विपक्ष कमजोर बता रहा हो लेकिन प्रधानमंत्री ने आज वीडियो संदेश के माध्यम से किसानों को कहा है कि “मैं अपने भारत के अन्नदाताओं को यह स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूँ कि वे Kisan Bill के खिलाफ जो भी भ्रम की स्थिति उत्पन्न की जा रही है उसपर ध्यान न दें। यह वही लोग हैं जिन्होंने देश में कई सालों तक राज किया और तब किसानों के लिए कुछ नहीं किया था।

Kisan Bill 2020 से नाराज होकर इस्तीफा देना एक नाटक:- कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा देने वाली हरसिमरत कौर के इस्तीफे को एक नाटक करार दिया है दरअसल ऐसा इसीलिए क्योंकि हरसिमरत कौर ने अपने पद से इस्तीफा तो दे दिया है लेकिन अकाली दल अभी भी NDA में शामिल है। कैप्टन इसे अकाली दल की सोची समझी साजिश कह दिया है। वो कहते हैं ” हरसिमरत कौर का इस्तीफा किसानों की चिंता नहीं बल्कि अपनी राजनीतिक जमीन को बचाने हेतु एक प्रयास है।

यह खबर भी पढ़ें:- Tata Steel Bonus:- टाटा कर्मचारियों को मिलेगा 3 लाख का बोनस

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here