देश हाल Hathras Gang rape:- हुआ एक होर निर्भय कांड, आखिर कब सुरक्षित होगा...

Hathras Gang rape:- हुआ एक होर निर्भय कांड, आखिर कब सुरक्षित होगा भारत

0

Hathras Gang Rape:- भारत देश का नाम जब भी आता है तो इस देश की संस्कृति एवं सभ्यता को भी साथ में लाता है। यह वो देश है जहां धरती को माँ का दर्जा प्राप्त है। लेकिन यह वह भी देश है जहां देवी स्वरूप बेटियों को अपनी सुरक्षा नहीं मिलती। Hathras Gang Rape केस भारत में उठाए जाते मौसमी सवालों को फिर से हवा दे रहे हैं कि क्या देश वाकई में बेटियों, बहनों और माताओं के लिए सुरक्षित है?

Hathras Gang Rape पीड़ित की आज 15 दिनों बाद मृत्यु

हाथरस गैंग रेप पीड़िता गुड़िया ने आज अपनी जिंदगी की जंग हार गई लेकिन कई सवाल छोड़ गई। यह मौसमी सवाल वही हैं जो शायद कुछ दिनों में फिर से दबा दिए जाएंगे। ताकि फिर अचानक से किसी बहन बेटी का रेप हो और फिर पूछा जा सके।

गुड़िया का रेप होने के बाद रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई एवं जीभ को भी काट दिया गया ताकि वह मदद के लिए चिल्ला न सके। सोमवार के दिन जब हालात में बिल्कुल सुधार न देखा गया तो युवती को दिल्ली में एम्स में भर्ती कराया गया। मंगलवार(29 सितंबर) के तड़के सुबह 4 बजे गुड़िया ने आखिरी सांस लेकर अलविदा कहा।

14 सितंबर को किया गया था रेप

गौरतलब है कि पीड़िता के रेप 14 सितंबर को हुआ था। लेकिन इसमें पुलिस का रवैया प्रशन चिन्ह लगाता है। बाजरे के खेत में युवती से किया गया रेप, पुलिस की फ़ाइल में मात्र छेड़खानी के केस के रूप में ही दर्ज हुआ और बाद में जब पीड़िता की हालत खराब पाई गई तो एक अन्य धारा लगाते हुए हत्या की कोशिश की धारा लगा दी गई जिसमें एक युवक को हिरासत में लिया गया।

पीड़िता 9 दिन तक रही बेहोश

Hathras Gang Rape case कितना दर्दनाक था कि इसका आप अंदाजा इस खबर से लगा सकते हैं कि पीड़िता को 9 दिन तक कोई होश न आया। गुड़िया को होश 21 सितंबर को आया जिसमें मेडिकल जांच में इस बात की पुष्टि हो सकी की गुड़िया के साथ गैंग रेप हुआ है। इसी दौरान गुड़िया ने जीभ काटने का जिक्र भी किया ताकि वह अपना बयान दर्ज न करा सके। मामले के तूल पकड़ने के बाद पुलिस ने तीन आरोपियों को हिरासत में लिया और उसके बाद एक होर आरोपी को पकड़ा।

10 लाख की मदद करेगी योगी सरकार

Hathras Gang Rape पीड़िता के लिए सरकार की ओर से सिद्धार्थनाथ सिंह से इस घटना के ऊपर दुख प्रकट करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री योगी भी इस घटना से बेहद दुखी हैं। हम पीड़िता के परिवार वालों को 10 लाख की मदद देते हैं। इसे मुआवजा कहना गलत होगा। पुलिस अधिकारियों को क्लीन चिट देते हुए सिद्धार्थनाथ सिंह कहते हैं कि पुलिस ने अपना काम सही से किया है। जब पीड़िता का भाई पुलिस स्टेशन पहुंचा तो तुरंत कारवाई की गई। चार आरोपियों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है।

पुलिस ने आरोपों का किया खंडन

हाथरस की स्थानीय पुलिस द्वारा सोशल मीडिया ट्विटर के माध्यम से इस खबर का खंडन किया गया जिसमें यह दावा किया गया है कि पीड़िता की रीढ़ की हड्डी तोड़ी गई एवं जीभ काटी गई। पुलिस के आधिकारिक बयान को परखा जाए तो उसमें वो कहते हैं कि गुड़िया की रीढ़ की हड्डी या जीभ काटने की कोई उल्लेख मेडिकल रिपोर्ट में नहीं लिखी गई है। दरअसल आरोपियों ने गुड़िया की गर्दन दबाई जिसके कारण रीढ़ की हड्डी सही से काम नहीं कर रही और इसी दौरान दांत जीभ पर लगने के कारण चोट का निशान दे गई।

कृपया हमें गूगल न्यूज़ पर Rightop को जरूर फॉलो करें।

कोई टिप्पणी नहीं है

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version