Fault TRP Racket में Republic Bharat TV का नाम नही, नाम india today का:- अर्नब गोस्वामी

1
298
Republic Bharat TV name is not present in FIR,it's India Today

Fault TRP Racket के आरोप में गुरुवार(8 अक्टूबर) को मुंबई पुलिस के कमिश्नर पद पर तैनात परमबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके एक सनसनीखेज खुलासा किया है।

कमिश्नर परमबीर सिंह ने सुशांत केस में Fault TRP Racket में अर्नब गोस्वामी के चैनल Republic Bharat TV के होने का जिक्र किया है। इस खुलासे में रिपब्लिक टीवी के अतिरिक्त दो अन्य चैनलों के भी नाम है एक है फ़ख्त मराठी एवं दूसरा है बॉक्स सिनेमा।

Fault TRP Racket के खुलासे में Republic Bharat TV के नाम आने से मीडिया जगत में हड़कंप मचा हुआ है। इस पर सीधा आरोप यह है कि अर्नब गोस्वामी की Republic Bharat TV पैसे देकर TRP chart में टॉप पर आता था। इससे वह ज्यादा मुनाफा कमाते थे।

Fault TRP Racket में हुई एक गिरफ्तारी

पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने इस बात का खुलासा करते हुए यह कहा कि वह इस केस की फ़ाइल को केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय एवं भारत सरकार को सौंपी जाएगी। इसके अलावा इस केस में एक गिरफ्तारी भी हुई है जिसके पास 8 लाख रुपए को राशि प्राप्त हुई है। जो पुलिस को शक है कि TRP को बढ़ाने के काम आनी थी।

Republic Bharat TV का पक्ष, Fault TRP Racket में

इस केस में नाम आने के बाद से अर्नब गोस्वामी एक्शन में आ गए हैं। अर्नब गोस्वामी ने पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के ऊपर मानहानि केस करने का दावा किया है।

FIR report shown by Republic Bharat TV
Image source Republic Bharat TV

Republic Bharat TV ने इस Fault TRP Racket में मुख्य हंसा रिसर्च ग्रुप प्राइवेट लिमिटेड की FIR कॉपी को हासिल किया है। जिसमे रिपब्लिक टीवी का दावा है कि नाम Republic Bharat TV का नहीं,बल्कि India Today का है। अर्नब गोस्वामी पुलिस कमिश्नर को ठोक के कहते हैं कि ‘हिम्मत है तो India Today का नाम लेकर दिखाओ।

अर्नब गोस्वामी के अनुसार परमबीर सिंह ने Republic Bharat TV का नाम इसीलिए लिया ‘क्योंकि सुशांत मर्डर केस में हमारी उंगली पुलिस कमिश्नर की टीम पर उठी थी। पालघर कांड में भी हमने(रिपब्लिक टीवी) ने सवाल उठाए थे।

Republic Bharat TV के नाम आने पर प्रतिद्वंद्वी के बयान

Fault TRP Racket में नाम आने से Republic Bharat TV या यूं कहें अर्नब गोस्वामी के प्रतिद्वंद्वी इस पर अपनी टिप्पणी खुलकर रख रहे हैं। बीते दिन 8 अक्टूबर को जब से यह खबर आई तब से लोगों द्वारा रिपब्लिक टीवी के समर्थन और विरोध में कई हैशटैग चलाए गए हैं। इसमें मुख्यतः अर्नब के पत्रकार प्रतिद्वंद्वी के ट्वीट कुछ इस प्रकार हैं।

 

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here